Viral

बून्दी में खुले आम घूम रहे राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, कलेक्टर, हाईकोर्ट

राजस्थान एक अलग ही किस्म का नायाब प्रान्त है| यहाँ का राजपूताना इतिहास तमाम वीर गाथाओं से भरा पड़ा है| लेकिन आजकल राजस्थान का बून्दी गाँव, प्रिंट मीडिया से लेकर सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बना हुआ है| इसका कारण भी अनोखा है| दरअसल यहाँ के निवासियों को अपने बच्चों के नाम अजीब तरह के नाम रखने में गर्व और ख़ुशी दोनों महसूस करते हैं| बून्दी जिला मुख्यालय से 10 किलोमीटर दूर रामनगर गाँव है| जहाँ की आबादी 500 से ज्यादा है, और यहाँ कंजड़ समुदाय के लोग रहते हैं|

सामान्यतः ये लोग अनपढ़ होते हैं लेकिन ये ही लोग ऐसे नामों को चलन में ले आते हैं, जिन्हें रखने की शायद ही कोई सोच रखता हो| इसी गाँव के ही एक सरकारी टीचर के अनुसार गाँव में अधिकतर लोग अशिक्षित हैं और ज्यादातर लोग गैर कानूनी काम करते हैं| जिसके चलते ये लोग पुलिस थानों और कचहरी के चक्कर लगाते रहते हैं| पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के रूतबे से हैरान ये लोग प्रभावित होकर अपने बच्चों के नाम हवलदार, एसपी, डीआइजी, आईजी, मजिस्ट्रेट रख लेते हैं| कुछ लोग तो पार्टियों के नेताओं से इस कदर प्रभावित होते हैं कि उनके नाम अपने बच्चों के रखने पर गर्व महसूस करते हैं| पूर्व प्रधानमंत्री इन्दरागांधी के एक जबरदस्त फैन ने अपने बच्चों के नाम राहुल, प्रियंका, सोनिया तक रख लिए हैं, व खुद का नाम कांग्रेस रखा है|

यहीं एक अरनियां गाँव है, जहाँ मीणा समुदाय के लोगों की संख्या अधिक है| ये लोग अपनी महिलाओं और लड़कियों के नाम नमकीन, फोटोबाई, जलेबीबाई, मिठाई, जैसे फालतू नाम रखते हैं| वहीँ एक और गाँव नैनवां में रह रहे लोग मोगिया और बंजारा समुदाय के हैं| ये लोग भी ऊटपटांग नाम रखने में किसी से पीछे नहीं है| यहाँ के लोग अपने बच्चों के नाम मोबाइल एसेसरीज के नाम पर रखते हैं| मानो ये कितने टैक्नीकली हैं| इन लोगों के बच्चों के नाम सुनकर आपके दिमाग का टेक्निकली डिपार्टमेंट ही हैंग हो जायेगा| इनके बच्चों के नाम है सैमसंग, जियोनी, नोकिया, सिमकार्ड, चिप, मिसकॉल, पैनड्राइव, मि.रैम , बेटा हार्डडिस्क, बेबी मिसकॉल, जैसे तमाम नाम सुनने को मिल जाते हैं| इस जिले के एक डॉक्टर का कहना है कि वो शुरू-शुरू में बहुत परेशान हो जाता था, जब लोग आकर कहते थे कि सैमसंग को दस्त लग गए हैं| और  एंड्राइड का प्रेसर नहीं बनता है, उसे कब्ज हो गयी है| चिप का पेट जाम हो गया है|

और सिमकॉल की उलटी बंद नहीं हो रही है| जियोनी के दिमाग में गर्मी चढ़ गयी है| यहाँ के एक व्यक्ति का नाम हाईकोर्ट रखा गया है| ये आदमी गाँव में खासा पॉपुलर है| अपने तीखे स्वभाव के चलते उसका ये नाम है| वो भी तब जब वो शारीरिक रूप से फिट नहीं है| जब उसका जन्म हुआ था तो उसके बाबा को आपराधिक केस में हाईकोर्ट से बेल मिली थी, इस ख़ुशी में उसके बाबा ने उसका नाम हाईकोर्ट रख दिया| और वो आज भी मुकद्दमे के सिलसिले में राजस्थान हाईकोर्ट में आता जाता रहता है| यहीं की एक महिला जब पहली बार कलेक्टर से मिली तो वो कलेक्टर के पद की आभा से इतनी खुश हुई कि उसने अपने बच्चे का नाम ही कलेक्टर रख दिया|

Pages: 1 2

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top