Viral

बेटियां कैसे पढ़ें कानून व्यवस्था ध्वस्त है मनचलों की फ़ौज चप्पे-चप्पे पर खड़ी है

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा बुलंद करने वाली बीजेपी सरकार में ही बेटियों की हालत दिन-प्रतिदिन बुरी तरह से बिगड़ती ही चली जा रही है| अभी कुछ दिन पूर्व आगरा में ही कलेक्ट्रेट में एसएसपी ऑफिस के गेट पर एक पीड़ित माँ-बेटी ने धरना दिया लेकिन कोई सुनवाई न होने पर माँ-बेटी ने पेट्रोल छिड़ककर जान देने की कोशिश की तो इस कवायद से वहां हडकंप मच गया| वहां मौजूद एसपी ट्रैफिक ने बड़ी मुश्किल से समझा कर शांत कराया और जल्द कार्यवाही का विश्वास दिलाया| माँ का आरोप था कि उनकी जमीन भू माफिया ने कब्ज़ा ली है और अब वे माँ-बेटी पर बुरी नजर रखते हैं|

पुलिस की उनसे मिली भगत है| तो पुलिस उनकी सुनती नहीं है| ये एक अकेला मामला नहीं हैं| ऐसे कई सारे मामले देश के अलग-अलग भागों से सुनाई देते हैं| समाचार पत्रों की सुर्ख़ियों में रहते हैं| लेकिन कोई कार्यवाही नजर नहीं आती| उत्तर प्रदेश में इस तरह की घटनाओं की मानो बाढ़ सी आई हुई है| गाँव से लेकर शहरों में लड़कियों को छेड़ने की घटनाएं निरंतर बढती जा रही हैं| जिनमें अधिकतर पीड़ितों की शिकायत पर पुलिस बिना रिपोर्ट दर्ज करे ही थाने से ही भगा देती है| पुलिस कि कार्यवाही न होने पर छेड़छाड़ करने वाले असामाजिक तत्वों के हौसले बुलंद हो जाते हैं|

वे शिकायत करने वाले परिवार को ही पीटने और डरा-धमकाने में कामयाब हो जाते हैं| इन दबंगों से परिवार के लोगों पर आतंक छा जाता है| जिसका पीड़ित लड़की पर बुरा मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ता है| और अपने परिवार वालों को असहाय देखकर, व पुलिस प्रशासन की उपेक्षा उन्हें बुरी तरह से तोड़ देती है| निरंतर उत्पीडन के चलते पीड़ित लड़कियां आत्महत्या करके अपनी जान देती हैं| इस तरह के केस इतने ज्यादा हो रहे हैं कि उनके सही आंकड़े इकट्ठे किये जाए तो सरकार के नारे और वादों की खोखलाहट दिखाई देती है| किशोरवय उम्र की लड़कियां मनचलों का सॉफ्ट टारगेट बन गयी हैं|

Pages: 1 2 3

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top